• Thu. Nov 25th, 2021

प्रधानाध्यापक की कुर्सी पर बैठने का हक किसी को नहीं,कैमुर डीईओ जारी करेंगे लिखित गाईडलाईन

ByG P Soni

Nov 5, 2021

कैमुर:  जिला शिक्षा पदाधिकारी ने कहा है”कि विद्यालयों में प्रधानाध्यापक की कुर्सी पर बैठने का कोई हक किसी को भी नहीं है. हां,अगर कोई वरीय वहां निरीक्षण के लिए जाते हैं, तो उनके लिए समकक्ष कुर्सी का प्रबंध कराना,विद्यालय प्रबंधन की जिम्मेदारी है.”

बिहार शिक्षा विभाग के गाइड लाइन के अनुसार कोई भी जनप्रतिनिधि, यदि किसी विद्यालय में रूटीन जांच के लिए जाते हैं. तो वहां बिहार शिक्षा विभाग द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का पूर्ण रूप से पालन होना अनिवार्य है.

ऐसे में निरीक्षण के लिए पहुंचे जनप्रतिनिधि और विद्यालय के प्रधानाध्यापक यह सुनिश्चित कर लें कि नियमों की अनदेखी न हो। बताते चलें कि कैमूर जिले के दुर्गावती प्रखंड के कस्थरी हाई स्कूल के निरीक्षण के दौरान कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी.

उसमें यह पाया गया था कि रामगढ़ के विधायक सुधाकर सिंह प्रधानाध्यापक के कक्ष में उनकी कुर्सी पर आसीन थे. और प्रधानाध्यापक खुद बगल में कुर्सी लगाकर बैठ गए थे. इसे लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने आपत्ति जताई, इसके बाबत विद्यालय के प्रधानाध्यापक अनिल तिवारी से पुछा गया तो उन्होंने कहा कि हमें प्रोटोकॉल की जानकारी नहीं थी.

क्योंकि विधायक जी सम्मानित व्यक्ति हैं. इसलिए हमने अपनी कुर्सी उनके सम्मान में सौंप दी. साथ ही जब प्रधानाचार्य महोदय को प्रोटोकॉल की जानकारी दी गई. तो उन्होंने कहा कि भविष्य में इस चूक की पुनरावृत्ति नहीं होगी. इसके बाद जब जिला शिक्षा पदाधिकारी कैमूर से इस विषय में गाइड लाइन की जानकारी ली गई

, तो उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा “कि प्रधानाध्यापक की कुर्सी पर बैठने का कोई हक किसी को भी नहीं है. हां, अगर कोई वरीय वहां निरीक्षण के लिए जाते हैं, तो उनके लिए समकक्ष कुर्सी का प्रबंध कराना, विद्यालय प्रबंधन की जिम्मेदारी है.

” उन्होंने यह भी कहा कि भविष्य में ऐसी गाइडलाइन संबंधी अनियमितता को रोकने के लिए, वो लिखित रूप से सभी विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों को निर्देशित करेंगे, ताकि भविष्य में इस तरह की चूक देखने को न मिले. इस विषय में शिक्षाविद अनुरंजन राय ने कहा कि प्रधानाध्यापक के पद की गरिमा सर्वोपरि है, हमारे परंपरा और संस्कृति में तो आदि काल से गुरु के महिमा का वर्णन मिलता हैं.

ऐसे में कोई जनप्रतिनिधि उनकी जगह नहीं ले सकता ? एक विधायक की जिम्मेदारी कानून बनाना है, साथ ही यह भी सुनिश्चित करना है कि कम से कम उनके द्वारा किसी तरह के कानून का उल्लंघन न हो।

 4,610 कुल दृश्य,  2 आज के दृश्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SORRY SIR .... WE ARE WITH YOU BUT DONOT COPY....