• Mon. Mar 1st, 2021

UP में अब युवा के लिए बहार, 3 महीने 3 लाख नौकरी देने की तैयारी , 21 को मुख्यमंत्री का अहम बैठक , जाने रिक्त पढ़ें यहाँ?

जिन लोगों ने घर-घर जांच के दौरान सीओवीआईडी ​​-19 के संदिग्ध लक्षण दिखाए हैं, उन्हें या तो रैपिड-एंटीजन टेस्ट या आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना चाहिए, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा। उन्होंने डॉक्टरों से उन मरीजों के केस इतिहास का अध्ययन करने के लिए भी कहा, जो सीओवीआईडी ​​-19 से ठीक हुए हैं। आदित्यनाथ ने यहां अपने सरकारी आवास पर अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान कहा, "इससे उपचार का एक प्रभावी तरीका विकसित करने में मदद मिलेगी।" मुख्यमंत्री ने उन्हें रैपिड-एंटीजन पद्धति के माध्यम से राज्य में परीक्षण बढ़ाने का भी निर्देश दिया। "जिन लोगों को घर-घर चिकित्सा जांच के दौरान COVID -19 के संदिग्ध लक्षण पाए जाते हैं, उन्हें रैपिड-एंटीजन टेस्ट या RT-PCR टेस्ट के माध्यम से जांच की जानी चाहिए। संक्रमण की पुष्टि होने के बाद, उन्हें COIDID में भर्ती कराया जाएगा। अस्पतालों, "उन्होंने कहा। राज्य सरकार द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में एम्बुलेंस की संख्या बढ़ाने के आदेश भी जारी किए। उन्होंने कहा, "प्रत्येक जिले में एकीकृत कमान और नियंत्रण केंद्र स्थापित किए जाने चाहिए और इसके माध्यम से, COVID-19 की रोकथाम से संबंधित एम्बुलेंस, चिकित्सा जांच, सर्वेक्षण कार्य और विभिन्न अन्य गतिविधियों के संचालन की निगरानी की जाएगी।" मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह भी सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया कि संपर्क ट्रेसिंग एक संगठित तरीके से की जाए। "अब तक कोई प्रभावी दवा या वैक्सीन विकसित नहीं की गई है, इसलिए संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए, सावधानी बरतने और सतर्क रहने के लिए आवश्यक है। आम जनता से कहा जाना चाहिए कि उन्हें अपने घरों को तब तक नहीं छोड़ना चाहिए जब तक कि यह बहुत आवश्यक न हो जाए। यदि कोई व्यक्ति बाहर जा रहा है, तो उसे मास्क पहनना चाहिए और सामाजिक दूरियों का पालन करना चाहिए। " उन्होंने यह भी कहा कि दो दिवसीय विशेष स्वच्छता और स्वच्छता अभियान को राज्य में शनिवार और रविवार को प्रभावी ढंग से लागू किया जाना चाहिए।

लखनऊ: प्रदेश सरकार अगले तीन महीने में खाली पड़े लाखों सरकारी पदों पर भर्ती की बड़ी मुहिम शुरू करने जा रही है। करीब तीन लाख पदों पर भर्ती कर अगले साल मार्च तक चयनित युवाओं को नौकरी का नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को उच्च अधिकारियों की बैठक में यह ऐलान किया। अब वे विभागों, भर्ती और व चयन आयोगों को इसी गणना से आगे काम करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब तक तीन लाख भर्तियां पारदर्शी व निष्पक्ष तरीके से हुईं हैं। इसी तरह आगे पारदर्शी तरीके से भर्तियां किए जाते हैं। उन्होंने मुख्य सचिव सहित सभी अपर मुख्य सचिव व प्रमुख सचिवों को एक सपताह में खाली पदों का ब्योरा देने को कहा है। मुख्यमंत्री ने बाद में ट्वीट कर कहा, चयन प्रक्रिया में शुचिता व विस्तार हमारी नीति है और इसे प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किया जाएगा।

21 को बुलाई अहम बैठक
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 21 सितंबर को लोकभवन में अहम बैठक बुलाई है। इसमें लोकसेवा आयोग, अधीनस्थ चयन सेवा आयोग, पुलिस भर्ती बोर्ड व अन्य चयन भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष बुलाए गए हैं। असल में पांच साल संविदा पर सरकारी नौकरी के प्रस्ताव पर तीखी प्रतिक्रिया के बाद विपक्षी दलों ने युवाओं में बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा बनाया है। गुरुवार को इस मुद्दे पर प्रदेश भर में विरोधी दलों ने आंदोलन किया। इस बीच योगी सरकार ने अपनी भर्ती प्रक्रिया को और  तेज करने का निर्णय लिया है।

नौकरियों का हाल
– 2018 में 68500 शिक्षक भर्ती में लगभग 45 हजार शिक्षकों को मिली नौकरी

– दिसम्बर 2019 में शुरू हुई 69000 शिक्षक भर्ती का मामला कट्ऑफ अंक विवाद में न्यायालय में विचाराधीन है। इसमें लिखित परीक्षा हो चुकी है और लगभग डेढ़ साल बाद मई, 2020 में इसका रिजल्ट भी जारी कर दिया गया। 1,46,060  अभ्यर्थी इसमें सफल हुए। लेकिन अब भी कटऑफ अंकों को लेकर शिक्षामित्रों के लिए 37339 पदों को होल्ड करने के आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिए हैं। राज्य सरकार ने पुनर्विचार याचिका डाली है।

-माध्यमिक शिक्षा में  2018 एलटी ग्रेड के 10768 पदों में से लगभग 50 फीसदी ही भरे, प्रक्रिया अब भी गतिमान

– सहायताप्राप्त स्कूलों में 18 से 20 हजार पद खाली, नहीं शुरू हो सकी भर्ती

सरकार ने 2017 से भरे गए पदों का दिया ब्यौरा :

विभाग  पद 
परिवार कल्याण समूह ख, ग, घ 8556
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन 28622
प्राविधिक व व्यावसायिक शिक्षा 365
उप्र अधीनस्थ सेवा चयन आयोग 16708
बेसिक शिक्षा विभाग 54706
पुलिस विभाग 137253
सहकारिता विभाग  726
लोक सेवा आयोग 26103
चिकित्सा शिक्षा विभाग 1112
माध्यमिक शिक्षा 14000
वित्त विभाग 614
उच्च शिक्षा विभाग 4615
नगर विकास 700
कुल भर्तियां                           294080

यहां भर्ती प्रक्रिया चल रही : 

पुलिस विभाग 16629
बेसिक शिक्षा 69000
कुल भर्ती 294080
प्रक्रियाधीन 85629
यूपीएसएसएससी प्रक्रियाधीन 5000

इन विभागों में पद खाली :

राजस्व विभाग लेखपाल व अन्य 9000
स्वास्थ्य 5300
परिवहन निगम 10,056
आवास विकास 200
पीडब्ल्यूडी 3210
वाणिज्य कर 430

 

One thought on “UP में अब युवा के लिए बहार, 3 महीने 3 लाख नौकरी देने की तैयारी , 21 को मुख्यमंत्री का अहम बैठक , जाने रिक्त पढ़ें यहाँ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *