• Fri. Nov 27th, 2020

Chhath Puja 2020: पवन सिंह से लेकर खेसारी लाल तक छठ पूजा पर सुनें ये गीत, VIDEO

Top 5 new Chhath Puja Song : चार दिवसीय महापर्व छठ पूजा की शुरुआत आज से हो गई है. बिहार और पूर्वी उत्‍तर प्रदेश का सबसे प्रमुख त्‍योहार छठ पूजा है. इस बार छठ पूजा 20 नवंबर को पड़ रहा है. ऐसे में छठ पूजा का पर्व 18 नवंबर से शुरू हो गया है. इस मौके पर गीतों को भी विशेष महत्‍व होता है. सोशल मीडिया पर छठ गीत तेजी से वायरल हो रहे हैं. भोजपुरी के कई चर्चित कलाकारों ने इस मौके पर छठ गीत रिलीज किए हैं. जानी-मानी लोक गायिका गायिका शारदा सिन्‍हा से लेकर भोजपुरी एक्‍ट्रेस अक्षरा सिंह के छठ गीत वायरल हो रहे हैं. वहीं, पवन सिंह और खेसारी लाल यादव के गाने भी काफी पसन्द किए जा रहे हैं.

अनुराधा पौडवाल की आवाज में छठ पूजा के दिल छू लेनेवाले गीत

खेसारी लाल यादव का छठ गीत

छठ घाटे चलीं

उगी हे सूरजमल नइयो ना डोले

धनिया हमार नया बाड़ी हो

पेन्हीं ना बलम जी पियरिया…

छठ के बरत माई भूखे . . . निरहुआ की आवाज में सुनें छठ गीत

अनुराधा पौडवाल का सुपरहिट छठ गीत

छठी मईया का गीत

छठी मईया का पारम्परिक गीत

छठी मईया की संगीतमय कहानी

अंजली भारद्वाज का सुपरहिट छठ गीत

अनु दुबे के आवाज में सुने छठ गीत

अनुराधा पौडवाल का सुपरहिट छठ गीत

पवन सिंह का सुपरहिट छठ गीत

शारदा सिन्‍हा का ये छठ गीत

काँच ही बाँस के बहंगिया

‘पहिले पहिल छठी मैयां’

प्रसिद्ध लोक गायिका शारदा सिन्‍हा की आवाज में गाया गीत ‘पहिले पहिल छठी मैयां’ (Pahile Pahil Chhathi Maiya) तेजी से वायरल हो रहा है. इस गाने को लोग खूब पसंद कर रहे हैं. इस गाने में छठ पर्व को लेकर लोगों की उत्‍सुकता और अपनापन दिख रहा है.

21 को छठ पर्व का समापन

चौथे दिन सुबह के अर्घ्‍य के साथ छठ का समापन हो जाता है. सप्‍तमी को सुबह सूर्योदय के समय भी सूर्यास्त वाली उपासना की प्रक्रिया को दोहराया जाता है. विधिवत पूजा कर प्रसाद बांटा जाता है और इस तरह छठ पूजा संपन्न होती है. यह तिथि इस बार 21 नवंबर को है.

20 नवंबर को पहला अर्घ्‍य

हिंदू धर्म में यह पहला ऐसा त्‍योहार है जिसमें डूबते सूर्य की पूजा की जाती है. इस बार शाम का अर्घ्‍य 20 नवंबर को है. इस दिन नदी, तालाब में खड़े होकर ढलते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. फिर पूजा के बाद अगली सुबह की पूजा की तैयारियां शुरू हो जाती हैं.

खरना 19 नवंबर को

खरना 19 नवंबर को है. इस दिन छठी माई के प्रसाद के लिए चावल, दूध के पकवान, ठेकुआ (घी, आटे से बना प्रसाद) बनाया जाता है. साथ ही फल, सब्जियों से पूजा की जाती है. इस दिन गुड़ की खीर भी बनाई जाती है.

नहाय खाय से शुरूआत

बता दें कि, छठ पूजा कार्तिक मास के शुक्‍ल पक्ष की षष्‍ठी से शुरू हो जाती है. इसकी शुरुआत नहाय खाय से होती है, जो कि इस बार 18 नवंबर को है. इस दिन घर में जो भी छठ का व्रत करने का संकल्‍प लेता है वह, स्‍नान करके साफ और नए वस्‍त्र धारण करता है. फिर व्रती शाकाहारी भोजन लेते हैं. आम तौर पर इस दिन कद्दू की सब्‍जी बनाई जाती है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

🦠🧬 COVID-19 महामारी, लापरवाही पड़सकता है भारी।

प्रिय पाठक , शर्दी में कोरोना का बढ़ने का आषा किया जा रहा है ,इसलिए ख़ामोश दुनिया टीम आप सभी पाठक से आग्रह करता है की घर से बहार निकलते समय मास्क जरूर पहने। धन्यवाद "जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं।"