• Fri. Jan 28th, 2022

इस तारीख को किसानों के खाते में आएंगे 2000 रुपये! लिस्ट में नाम नहीं है तो ऐसे करें शिकायत

पीएम किसान सम्मान निधि योजना: पीएम मोदी ने 8.5 करोड़ किसानों को 17,000 करोड़ रुपये जारी किए ,यहाँ जाने विवरण

PM Kisan: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत मिलने वाली 8वीं किस्त का इंतजार खत्म होने वाला है. किसानों के खातों में 2000 रुपये की रकम जल्द ही ट्रांसफर की जा सकती है. सरकार हर साल सीमांत किसानों को 6000 रुपये आर्थिक मदद के रूप में उनके खातों में डालती है. ये रकम 2000-2000 रुपये की तीन किस्तों में डाली जाती है.  सरकार सभी लाभार्थियों की एक लिस्ट जारी करती है. इस लिस्ट में जिन किसानों का नाम होता है उन्हें ही ये किस्त दी जाती है.

PM Kisan की रकम जल्द आएगी खाते में

पीएम किसान सम्मान निधि योजना से अबतक 11.74 करोड़ किसान जुड़ चुके हैं. इनको नियमित अंतराल पर यह राशि मिल जाती है. अगर आपको भी अप्रैल-जुलाई की 2000 रुपये की किस्त का इंतजार है तो ध्यान रखिए इस महीने के अंत तक या 2 मई के बाद कभी भी आपके खाते में पैसे आ सकते हैं. आपके गांव में किसके किसके खाते में पैसे आएंगे आप ये बेहद आसानी से पता लगा सकते हैं. आइये इस प्रक्रिया को जानते हैं.

क्या आपका नाम लिस्ट में है, ऐसे लगाएं पता

 

PM किसान की लाभार्थियों की सूची में अपना नाम जांच करने के लिए सबसे पहले आपको PM किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in पर विजिट करना होगा. यहां आपको Farmers Corner का ऑप्शन दिखाई देगा.  Farmers Corner सेक्शन के भीतर आपको Beneficiaries List के ऑप्शन पर क्लिक करें. फिर आपको लिस्ट में अपने राज्य, जिला, उप जिला, ब्लॉक और गांव की जानकारी को चुनना होगा. Get Report पर क्लिक करना होगा. इसके बाद लाभार्थियों की पूरी लिस्ट सामने आ जाएगी.

अगर आपको भी अपनी 2000 रुपये की रकम का इंतजार है और आपको लिस्ट में अपना नाम नहीं मिला है तो घबराएं नहीं. आप पीएम किसान सम्मान की हेल्पलाइन 011-24300606 पर कॉल कर के अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. पीएम किसान सम्मान योजना में सरकार 3 किस्तों में पैसे ट्रांसफर करती है. पहली किस्त 1 दिसंबर से 31 मार्च, दूसरी किस्त 1 अप्रैल से 31 जुलाई और तीसरी किस्त 1 अगस्त से 30 नवंबर के बीच में किसानों के अकाउंट में डाली जाती है.

 1,020 कुल दृश्य,  2 आज के दृश्य

Leave a Reply

Your email address will not be published.

SORRY SIR .... WE ARE WITH YOU BUT DONOT COPY....