• Thu. Sep 23rd, 2021

“INDIA vs PAKISTAN” युद्ध होगा तो क्या गृहयुद्ध छिड़ जाएगा ।

” भारत पाकिस्तान मे युद्ध लेकिन भारत मे ग्रहयुद्ध होगा भविष्यवाणी “
क्या होगा अगर भारत मे युद्ध हुआ तो

 पाकिस्तान के पास सबसे बड़ा हथियार उसका परमाणु बम नहीं बल्कि भारत मे बसे बीस करोड़ मुसलमान है !
यह बात मैं नहीं कह रहा हूँ , यह बात 1980 के दशक में जनरल जिया उल हक ने दी थी !
उसने कहा था कि जब भारत में पाकिस्तान से ज्यादा मुसलमान हैं तो हमें वहाँ लड़ने के लिए अपने सैनिक भेजने की क्या जरूरत है ?
तब से पाकिस्तान ने अपनी सोच स्ट्रेटजी बदल ली है,
अब वह भारत के मुसलमानों को रेडिकलाइज करने में इन्वेस्ट करना शुरू कर दिया है !

हर सहर हर गली मे मदरसे जहा कि शिक्षा उसका उदाहरण है
भारत की अपनी सरकारों ओर गद्दार नेताओ ने भी इस आग में खूब घी डाला है!
आज अगर मोटा मोटा आकलन करें तो भी कम से कम दस प्रतिशत मुसलमान तो इस्लामी कट्टर हो ही चुका है ! संख्या में ये कितने हुए ? 20 करोड़ का 50 परसेन्ट यानी दस करोड़ !
जबकि भारत के पास लगभग 15 लाख फोज है
मतलब पूरे भारत की फौजों से पचास -साठ गुना ज्यादा !
अब अगर पाकिस्तान इन्हें भारत में दंगे फसाद फैलाने का सिग्नल दे दे,
जबकि हर मुस्लिम के घर मे हथियार भी है
तो आप कैसे संभालोगे ? और जो बाकी के अठारह करोड़ हैं वो आपके साथ खड़े होकर इसका विरोध करते नहीं दिखेंगे !
वे या तो मूकदर्शक बनकर हवा का रुख भांपेंगे, या शोर मचाएँगे कि मुसलमानों के साथ कितना अत्याचार हो रहा है !
इस सोर मे सेकुलर मिडिया ओर हिन्दू विरोधी विचारधारा वाले नेता भी इनका साथ देंगे
अगर दो चार प्रतिशत मुसलमान सचमुच इसके विरोध में भी होंगे तो वे वैसे ही अप्रासंगिक होंगे जैसे 1947 के पहले भारत विभाजन के समय थे !
पिछले कुछ समय से भारत के अलग अलग शहरों में किसी न किसी बहाने से पचास हजार या एक लाख मुसलमान जुटते रहे हैं,
उन्होंने हिंसक प्रदर्शन किया हैं ! कभी किसी हिन्दू त्योहार के मौके पर या कहीं पैगम्बर से गुस्ताखी के विरोध के बहाने से !
पता है यह सब क्या है? ये विरोध प्रदर्शन नहीं है!
यह सब उसी मारक हथियार के मिकेनिज्म को टेस्ट करने की पाकिस्तान की प्रक्रिया भर है !
उद्दहारण
सबूत
भारत मे 1965 तक मुस्लिम रेजिमेंट सेना थी जिसमे मुस्लिम समुदाय के लोग थे पाकिस्तान युद्ध मे उन्होंने पाकिस्तान युद्ध 1965 मे पाकिस्तान पर हमला करने से मना कर दिया था तब उस रेजिमेंट को तोड़ा गया था,
लेकिन सोचिए जरा इससे निपटने की हमारी तैयारी क्या है
हम समझते हैं सब सरकार करेगी,

जिस दिन युद्ध होगा उस दिन हाँ सरकार करेगी,
जितना सैनिक उपलब्ध होंगे उसे बोडर पर भेज देगी !

वो रेल कि पटरी उखाड़ देगे गद्दर मचायेगे लूटपाट करेगे ऐसा 1947 मे कलकत्ता मे देश विभाजन के समय हुआ था जो ऐक कङवी सच्चाई है लेकिन क्या आप इन दस करोड़ को रोक पायेंगे ? युद्ध जिस स्तर पर लड़ा जाता है उसका मुकाबला भी उसी स्तर पर किया जा सकता है! दुश्मन सामाजिक स्तर पर लड़ाई लड़ने को अपनी तैयारी लगभग पूरी कर चुका है! लेकिन क्या हम इस दिशा में एक भी कदम आगे बढ़े हैं ? नहीं, बस सारे दिन मोदी मोदी
वो पंचर बना लेंगे, मुर्गा मुर्गी बेच लेंगे, हजामत बना लेंगे, नहीं तो फेरी लगा कर कबाड़ खरीदेंगे बेचेंगे लेकिन वो इन चीजों में अपनी शक्ति जाया नहीं करेंगे! क्योंकि उन्होंने अपना लक्ष्य तय कर रखा है,
वो भी करेंगे अपने उसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ही करेंगे!
हाँ उनके कुछ लोग जो प्रशिक्षित हैं वो इन मुद्दों पर सार्वजनिक रूप से सीमित मात्रा में बोलते देखे जा सकते हैं, जो सिर्फ आपको व्यवस्था के प्रति आक्रोशित करने के लिए! वो सिर्फ मुद्दे को लोगों के बीच उकसाते हैं और फिर अलग हो जाते हैं और वहाँ मौजूद हम आप उस मुद्दे के पक्ष विपक्ष में वाक्युद्ध में संलग्न होकर अपने आपसी रिश्ते बिगाड़ते हैं और वह तमाशा देखते हैं! ये भी उनकी स्ट्रेजडी का हिस्सा है जिसे हम हिन्दू भाँप नहीं पाते!
ऐसी विषम परिस्थिति में अब भी समय हैं कि हम समय रहते अपने छोटे छोटे आपस में वैमनस्य पैदा करने वाले मुद्दों को पीछे छोड़ अपने अस्तित्व के संकट के प्रति एकजुट हों!
इससे निपटने का कोई एक्शन प्लान बनाये और उस पर अमल करें!
अन्यथा वह समय अब आ गया लगता है कि हम विश्वगुरु के सपने देखते हुए अपना वर्तमान भी खो देंगे !
भविष्यवाणी
“भारत मे अगला युद्ध पाकिस्तान से होगा लेकिन वह युद्ध नही भारत के अंदर विश्व का सबसे बड़ा ग्रहयुद्ध होगा शिव प्रेरणा संस्था की भविष्यवाणी”।

 102 कुल दृश्य,  2 आज के दृश्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SORRY SIR .... WE ARE WITH YOU BUT DONOT COPY....