• Thu. Sep 23rd, 2021

उत्तर प्रदेश सरकार ने बिहार के लासों को काशी में अंतिम संस्कार से रोका । जनता की सरकार से अपील बिहार में नही करने देंगे पिंड दान ।

कैमूर: बिहार के शवों का यूपी में दाह-संस्कार करने पर यूपी सरकार ने यह दलील देते हुए रोक लगा दिया की बिहार से आ रहे लोग गंगा नदी में शव फेंक चले जा रहे हैं। सोमवार शाम से ही यूपी सरकार ने पुलिस प्रशासन को बिहार से आने वाले शव को यूपी में प्रवेश नहीं दिए जाने के आदेश जारी कर दिए गए हैं।

अब तक कैमूर के बिहार-युपी के बॉर्डर से एक दर्जन से अधिक शव को वापस कराया जा चुका है। यूपी सरकार के इस फरमान के बाद कैमूर के लोगों ने भी कहा कि अगर बिहार के शवों का यूपी में सरकार दाह-संस्कार नहीं करने देगी, तो हम लोग यूपी वालों को बिहार के गया में होने वाले पिंडदान को भी नहीं होने देंगे। उनको भी बॉर्डर पर रोकेंगे। बिहार और यूपी दोनों जगहों पर एनडीए गवर्नमेंट है। बक्सर के चौसा में नदी में तैरते लाश मिलने के बाद यूपी गवर्नमेंट ने बिहार के शव का दाह-संस्कार पर यूपी में पूरी तरह से रोक लगा दिया है, जिसके बाद वाहन बॉर्डर से वापस लौट रहे हैं।

बॉर्डर इलाके में चैकपोस्ट बनाकर विधिवत पुलिस की तैनाती कर दी गई है और सभी शवों को एक-एक कर लौटाया जा रहा है। यूपी के अधिकारियों की मानें तो सोमवार शाम से ही सरकार द्वारा आदेश जारी कर दिया गया है। इसमें कैमूर के लोगों का हाल बहुत बुरा है। कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद जिले का सटा राज्य यूपी होने के कारण गंगा नदी के किनारे शव को जलाने की परंपरा है। जिससे दर्जनों शव प्रतिदिन कैमूर के रास्ते होते हुए यूपी जाते हैं। लेकिन यूपी सरकार द्वारा रोक लगा देने के बाद अब लोग शव लेकर जाते तो है लेकिन बिना दाह-संस्कार किये वापस चले आते हैं।

ग्रामीण बताते हैं कि, हमलोग बाप-दादा के जमाने से अगर गांव में किसी की भी मौत होती है तो यूपी में गंगा नदी के किनारे शव जलाकर अस्थियां गंगा में विसर्जित करते हैं। यह शुरू से ही परंपरा चली आ रही है। हमलोगों ने कभी नहीं सुना कि किसी के शव को कोई सरकार रोक दे। पहली बार ऐसा हो रहा है की शव लेकर लोग जा रहे हैं तो यूपी की पुलिस वापस लौटा दे रही है। कह रही है कि बिहार के शव का यूपी में दाह-संस्कार नहीं होगा। जिससे लोगों को खासा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

युपी बॉर्डर पर तैनात पुलिस के जवान बताते हैं उच्च
अधिकारियों द्वारा निर्देश दिया गया है कि, बिहार के तरफ से किसी भी शव के वाहन को यूपी में प्रवेश नहीं करने दिया जाए। जिनके निर्देश का पालन करते हुए हमलोग सोमवार की रात से ही बिहार के तरफ से यूपी आने वाले शव वाहनों को रोककर उन्हें वापस बिहार भेज दे रहे हैं।

वहीं समाजसेवी सतीश यादव का कहना है कि कभी भी शव को रोकने की परंपरा नहीं रही है। जब शव एक बार घर से जलाने के लिए चला जाता है, तो फिर लौटकर वापस नहीं आता। लेकिन योगी सरकार द्वारा पहली बार बिहार के शव को यूपी में दाह-संस्कार करने पर रोक लगा दिया गया है। जिससे हमलोग सरकार को अल्टीमेटम देते हैं कि अगर सरकार बिहार के शव का यूपी में दाह-संस्कार करने नहीं देगी तो हमलोग भी यूपी के लोगों का बिहार के गया में पिंडदान करने नहीं देंगे। समय रहते सरकार चेत जाए अन्यथा पिंडदान के समय हमलोग भी यूपी वालों की गाड़ियों को बिहार में प्रवेश वर्जित करेंगे।

 686 कुल दृश्य,  2 आज के दृश्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SORRY SIR .... WE ARE WITH YOU BUT DONOT COPY....